Best 40+ [ Saza Shayari ], Saza Status In Hindi ( सजा शायरी 2 लाइन )

Saza Shayari के पोस्ट में आप पढ़ सकते है, Saza Shayari In Hindi, Saza Shayari 2 Line, Saza Status In Hindi, Saza Status 2 Line, के जबरजस्त कलेक्शन. जिस आप पढ़कर इस पोस्ट के लुफ्त उठा पायेंगे.

इस पोस्ट में आप पढ़े बेहतरीन सजा  शायरी और स्टेटस के कलेक्शन को, और मजे उठाये हमारे Saza Shayari के पोस्ट का. और यदि आप हर प्रकार के शब्दों पर शायरी को पढना चाहते है तो आप हमारे Hindi Shayari के कलेक्शन को जरुर पढ़े.


Saza Shayari


1.
तुझे चाहना जैसे एक सजा है,

पर दुआ है कि मुझे इसमें उम्र कैद मिले.

Tujhe Chahna Jaise Ek Saza Hai,
Par Dua Kai Ki Isame Umra Kaid Mile.


2.
सजा मिली उन गुनाहों की जो मेरे हरगिज न थे,

मैं वो आँसू भी रोया जो खान साहब के नसीब में न थे।.

Saza Mili Un Gunaaho Ki Jo Mere Hargij Na The,
Mai Vo Aansu Bhi Roya Jo Khan Saahab Ke Naseeb Me Na The.


Saza Shayari In Hindi


Saza Shayari In Hindi

3.
दुश्मनों को सज़ा देने की एक तहज़ीब है मेरी,

मैं हाथ नहीं उठाता बस नज़रों से गिरा देता हूँ.

Dushmao Ko Saza Dene Ki Ek Tahjib Hai Meri,
Mai Hath Nahi Uthata Bas Nazaro Se Gira Deta Hu.


इन्हें भी पढ़े :- 30+ Raaz Status In Hindi ( राज़ शायरी )


4.
चलो बाट लेते हैं अपनी सज़ाऐं.

ना तुम याद आओ ना हम याद आए.

Chalo B      aat Lete Hai Apani Sazaye,
Na Tum Yaad Aao Na Ham Yaad Aaye.


5.
बहुत दर्द देती है वो सजा,

इश्क़ में वफ़ा करने के बाद जो मिलती है.

Bahut Dard Deti Hai Vo Saza,
Ishq Me Vafa Karne Ke Baad Jo Milati Hai.


Saza Shayari 2 Line


Saza Shayari 2 Line

6.
खुदा ने पूछा क्या सजा दूँ उस बेफ़वा को,

दिल से आवाज़ आई मोहब्बत हो जाये उसे भी.

Khuda Ne Pucha Kya Saza Du Us Bewafa Ko,
Dil Se Aavaaz Aayi Mohabbat Ho Jaye Use Bhi.


7.
दिल पर लगी तेरी तस्वीर हटा दी है,

दर्द तो बहुत हुआ पर मैंने खुद को ये सजा दी है.

Dil Par Lagi Teri Tasvir Hata Di Hai,
Dard To Bahut Gua Par Maine Khud Ko Ye Saza Di Hai.


8.
ज़िंदा हु मगर ज़िंदगी से दूर हु मैं,

आज क्यों इस कदर मजबूर हूँ मैं,
बिना गलती की सजा मिलती है मुझे,
किस से कहूं की आखिर बेक़सूर हु मैं

Zinda Hu Magar Zindagi Se Dur Hu Mai,
Aaj Kyo Is Kadar Majbur Hu Mai,
Bina Galti Ke Saza Milti Hai Mujhe,
Kis Se Kahu Ki Aakhir Bekasoor Hu Mai.


9.
ले लो वापस ये आँसू ये तड़प और ये यादें सारी,

नहीं हो तुम अगर मेरे तो फिर ये सज़ाएं कैसी.

Le Lo Vaapas Ye Aansu Ye Tadap Aur Ye Yade Sari,
Nahi Ho Tum Magar Mere To Fir Ye Sajaaye Kaisi.


10.
मुझे मंजूर थे वक़्त के सब सितम मगर,

तुमसे मिलकर बिछड़ जाना ये सजा ज़रा ज्यादा हो गयी.

Mujhe Manjoor The Vakt Ke Sab Sitam Magar,
Tumse Milkar Bichad Jana Ye Saza Jara Jyaada Ho Gayi.


Saza Status In Hindi


Saza Status In Hindi

11.
इश्क में कभी कोई ऐसी खता न हो,

मिले तो बिछड़ने की सजा न हो.

Ishq Me Kabhi Koi Aisi Khata Na Ho,
Mile To Bichadne Ki Saza Na Ho.


12.
जो दे रहे हो हमें ये तड़पने की सज़ा तुम,

हमारे लिए ये सज़ा ऐ मौत से भी बदतर है.

Jo De Rahe Ho Hame Ye Tadapne Ki Saza Tum,
Hamare Liye Ye Saza Ae Maut Se Bhi Badtar Hai.


Mohabbat Ki Saza Shayari


13.
किस बात की सजा दे रहे हो,

प्यार किया इसलिए, या तुमसे ज्यादा प्यार किया इसलिए.

Kis Baat Ki Saza De Rahe Ho,
Pyaar Kiya Isliye, Ya Tumse Jyada Pyaar Kiya Isliye.


इन्हें भी पढ़े :- 30+ Patthar Status Hindi पत्थर शायरी


14.
उनकी खामोशी ही मेरी सजा है,

जानबूझकर दर्द देना उनकी अदा है.

Unaki Khamoshi Hi Meri Saza Hai,
Jaanbujhkar Dard Dena Unaki Ada Hai.


Saza Status 2 Line

15.
आँखों ने तुमकों चाहा इतना जरुर है,

दिल‌ को‌ सजा मत देना ये बेकसूर है.

Aankho Ne Tumko Chaha Itna Jarur Hai,
Dil Ko Saza Mat Dena Ye Bekasoor Hai.


Saza Status 2 Line


16.
मांग भरने की सज़ा कुछ इस कदर पा राहा हूं,

उसकी मांग पूरी करते करते मांग मांग कर खा राहा हू.

Maang Bharne Ki Saza Kuch Is Kadar Paa Raha Hu,
Usaki Maang Puri Karte Karte Maang Maang Kar Kha Raha Hu.


17.
इश्क़ के खुदा से पूछो उसकी रजा क्या है,

इश्क़ अगर गुनाह है तो इसकी सजा क्या है.

Ishq Ke Khuda Se Pucho Usaki Raza Kta Hai,
Ishq Agar Gunaah Hai To Isaki Saza Kya Hai.


18.
हद चाहिए सज़ा में उक़ूबत के वास्ते,

आख़िर गुनाहगार हूँ काफ़र नहीं हूँ मैं.

Had Chahiye Saza Me Ukubat Ke Vaste,
Aakhir Gunahgaar Nahi Hu Mai.


Pyar Ki Saza Shayari In Hindi


19.
इश्क़ में जो मिलती है वो सज़ा ही कुछ और है,

कभी तन्हा रहके देखो तन्हाई का मज़ा ही कुछ और है.

Ishq Me Jo Milati Hai Vo Saza Hi Kuch Aur Hai,
Kabhi Tanha Rahke Dekho Tanhayi Ka Maja Hi Kuch Aur Hai.


20.
कत्ल तुम्हारी नशीली आँखों ने किया,

सजा-ए-इश्क़ के जख़्म पर मरहम लगा रहा हूँ.

Katl Tumhari Nasheeli Aankho Ne Kiya,
Saza-Ae-Ishq Ke Jakhm Par Marham Laga Raha Hu.


Pyar Ki Saza Shayari In Hindi

21.
जिंदगी से बड़ी सजा ही नहीं,

और क्या जुर्म है पता ही नहीं.

Zindagi Se Badi Saza Hi Nahi,
Aur Kya Jurm Hai Pata Hi Nahi.


22.
क्या पता उसको कि वो मुझ को सज़ा देता है,

वो तो मासूम है, जीने की दुआ देता है.

Kya Pata Usako Ki Vo Mujh Ko Saza Deta Hai,
Vo To Maasoom Hai, Jeene Ki Dua Deta Hu.


Gunahon Ki Saza Shayari


23.
कोई अच्छी सी सज़ा दो मुझको,

चलो ऐसा करो भुला दो मुझको.

Koi Achhi Si Saza Do Mujhako,
Chalo Aisa Karo Bhula Do Mujhako.


24.
सजा जो भी दोगी वो मंजूर होगी,

पर तेरी बेरुखी ना मंजूर होगी.

Saza Jo Bhi Dogi Vo Manjur Hogi,
Par Teri Berukhi Na Manjoor Hogi.


इन्हें भी पढ़े :- 25+ Payal Status In Hindi With Images


25.
इश्क में खता हो तो बेसक उसे सजा दो,

पर दिल पर पत्थर रखकर उसे बुला मत दो.

Ishq Me Khata Ho To Beshak Use Saza Do,
Par Dil Par Patthar Rakhkar Use Bula Mat Do.


Saza Shayari In Urdu


26.
जो जुर्म करते हैं इतने बुरे नहीं होते,

सज़ा न देके अदालत बिगाड़ देती है. राहत इंदौरी

Jo Jurm Karte Hai Itane Bure Nahi Hote,
Saza Na Deke Adaalat Bigaad Deti Hai.


Saza Shayari In Urdu

27.
मैंने आजाद किया अपनी वफाओ से तुझे,

बेवफाई की सजा मुझको सुनाई जाए.

Maine Aazaad Kiya Apani Vafaao Se Tujhe ,
Bevafaayi Ki Saza Mujhako Sunaayi Jaye.


28.
उस शहर में ज़िंदा रहने की सजा काट रही हूं,

जहां जज्बातों की कोई कदर ही नहीं.

Us Shahar Me Zinda ahane Ki Saza Kaat Rahi Hu,
Jaha Jajbaato Ki Koi Kadar Hi Nahi.


Galti Ki Saza Shayari


29.
क्यों ना मिलती हमे मोहब्बत में आखिर,

हमने भी बहुत दिल तोड़े थे उस सख्स की खातिर.

Kyo Na Milati Hame Mohabbat Me Aakhir
Hamane Bhi Bahut Tode The Us Sakhs Ki Khatir.


30.
मोहब्बत की अदालत में इन्साफ कहाँ होता है,

सजा उसी को मिलती है जो बेगुनाह होता है.

Mohabbat Ko Adaalat Me Insaaf Kaha Hota Hai,
Saza Usi Ko Milati Hai Jo Begunaah Hota Hai.


31.
खुलकर दिल से मिलो तो सजा देते है लोग,

इश्क़ की छाँव में बैठे दो परिंदों को भी उड़ा देते है लोग.

Khulkar Dil Se Milo To Saza Dete Haio Log,
Ishq Ki Chaav Me Baithe Do Parindo Ko Bhi Uda Dete Hai Log.


Pyar Karne Ki Saza Shayari


32.
लोगो भला इस शहर में कैसे जिएँगे हम जहाँ,

हो जुर्म तन्हा सोचना लेकिन सज़ा आवारगी.

Logo Bhala Is Shahar Me Kaise Jiyenge Ham Jaha,
Ho Jurm Tanha Sochna Lekin Saza Avaaragi.


33.
मोहब्बत की मिसाल में, बस इतना ही कहूँगा,

बेमिसाल सज़ा है, किसी बेगुनाह के लिए.

Mohabbat Ki Misaal Me, Bas Itna Hi Kahunga,
Bemisaal Saza Hai, Kisi Begunaah Ke Liye.


34.
लौटा जब वो बिना जुर्म की सजा काटकर,

सारे परिन्दें रिहा कर दिए उसने घर आकर.

Lauta Jab Vo Bina Jurm Ki Saja Kaatkar,
Sare Parinde Riha Kar Diye Usane Ghar Aakar.


Galti Ki Saza Shayari In Urdu


35.
अंजाम-ए-वफ़ा ये है जिसने भी मोहब्बत की,

मरने की दुआ माँगी जीने की सज़ा पाई.

Anjaam-Ae-Vafa Ye Hai Jisane Bhi Mohabbat Ki,
Marne Ki Dua Maangi Jine Ki Saza Payi.


इन्हें भी पढ़े :- 30+ Nazare Status ( नजर पर शायरी )


36.
कैदी तेरी जुल्फों का है आजाद जहां से,

मुझको रिहाई तो सजाओ ने दिलाई.

Qaidi Teri Zulfo Ka Hai Aazaad Jahaan Se,
Mujhako Rihayi To Sajaao Ne Dilaayi.


37.
नज़र अंदाज़ करने की सजा देनी थी तुमको,

तुम्हारे दिल में उतर जाना ज़रूरी हो गया था.

Nazar Andaz Karne Ki Saza Deni Thi Tumko,
Tumhare Dil Me Utar Jana Jaruri Ho Gaya Tha.


Final Word :- 

आशा करता हु कि आपको हमारा Saza Shayari का पोस्ट जरुर पसंद आया होगा, इसी तरह के और शायरियों को पढ़ने के लिए आप हमारे और भी पोस्ट को जरुर पढ़े.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *