Best 70+ Mirza Ghalib Shayari In Hindi 2021, With Images ( मिर्ज़ा ग़ालिब शायरी )

Mirza Ghalib Shayari In Hindi के पोस्ट में आपको पढने को मिलेगा Mirza Ghalib Status In Hindi, Mirza Ghalib Shayari On Life, Mirza Ghalib Shayari On Love के बेजोड़ कलेक्शन और पाए ढेर सारे मिर्ज़ा ग़ालिब के स्टेटस और शायरी और भी बहुत कुछ वो भी हिंदी में.

दोस्तों आपका हमारे इस पोस्ट में आपका स्वागत है, अगर आप शायरी के दीवाने है तो आप मशहूर शायर मिर्ज़ा ग़ालिब जी को जरुर जानते होंगे, मिर्ज़ा ग़ालिब अपनी उर्दू, हिंदी और फारसी शायरी के लिए इस संसार में प्रसिद्ध थे. इनकी शेरो-शायरियाँ और गज़ले सुनकर आज भी मन ख़ुशी से भर जाता है.

मिर्ज़ा ग़ालिब का जन्म 1797 में आगरा जिले में हुआ था, इस महान शायर ने दिल्ली में फारसी और उर्दू सिखा. केवल तेरह वर्ष की उम्र में उनकी शादी हो गयी थी, उनकी शादी के बाद उनमे ऐसा परिवर्तन आया जो शायरियाँ बनकर ग़ालिब जी के जुबान से निकला, और इन्ही शेरो-शायरियों को हम बड़े प्यार से पढ़ते है, गुनगुनाते है और बड़े ही प्रेम से शेयर करते है, आइये एक नज़र डालते है अपने पोस्ट की ओर.

Mirza Ghalib Shayari In Hindi

1.
कुछ तो तन्हाई की रातों में सहारा होता,
तुम न होते न सही ज़िक्र तुम्हारा होता.

Kuch To Tanhai Ki Raato Me Sahara Hota, Tum Na Hote Na Sahi Zikra Tumhara Hota. – Mirza Ghalib

Mirza Ghalib Shayari

2.
भीगी हुई सी रात में जब याद जल उठी,
बादल सा इक निचोड़ के सिरहाने रख लिया.

Bheegi Huyi Raat Me Jab Yaad Jal Uthi, Badal Sa Ek Nichod Ke Sarhane Rakh Liye. – Mirza Ghalib

3.
मेरे कातिल भी परेशान है मेरे चाहने वालो की दुआ से,
जब भी वार करते है खंजर टूट जाते है.

Mere Qatil Bhi Pareshan Hai Mere Chahne Valo Ki Dua Se, Jab Bhi Karte Hai Khanjar Toot Jate Hai. – Mirza Ghalib

इन्हें भी पढ़े :- Best 60+ I Love You Shayari In Hindi ( आई लव यू शायरी )

4.
इश्क़ पर जोर नहीं है ये वो आतिश ‘ग़ालिब’,
कि लगाये न लगे और बुझाये न बुझे.

Ishq Par Jor Nahi Hai Ye Vo Aatish “Ghalib”, Ki Lagaye Na Lage Aur Bujhaye Na Bujhe. – Mirza Ghalib

5 4

5.
रगों में दौड़ते फिरने के हम नहीं क़ाइल,
जब आँख ही से न टपका तो फिर लहू क्या है.

Rago Me Daudte Firne Ke Ham Nahi Kiel, Jab Aankh Hi Se Na Tapka To Fir Lahu Kya Hai. – Mirza Ghalib

6.
एक एक क़तरे का मुझे देना पड़ा हिसाब,
ख़ून-ए-जिगर वदीअत-ए-मिज़्गान-ए-यार था.

Ek Ek Katre Ka Mujhe Dena Pada Hisaab, Khoon-Ae-Zigar Vadiat-Ae Mijgaan -Ae-Yaar Tha. – Mirza Ghalib

Best Mirza Ghalib Shayari In Hindi

7.
कितना ख़ौफ होता है शाम के अंधेरों में,
पूछ उन परिंदों से जिनके घर नहीं होते.

Kitna Khauf Hota Hai Shaam Ke Andhero Me, Puch Un Parindo Se Jinake Ghar Nahi Hote. – Mirza Ghalib

Mirza Ghalib Shayari in Hindi 2 Lines

8.
इश्क़ ने “ग़ालिब” निकम्मा कर दिया,
वरना हम भी आदमी थे काम के.
– मिर्ज़ा ग़ालिब

Ishq Ne “Galib” Nikamma Kar Diya, Varna Ham Bhi Aadami The Kaam Ke. – Mirza Ghalib

9.
आशिक़ी सब्र तलब और तमन्ना बेताब,
दिल का क्या रंग करूँ खून-ए-जिगर होने तक.

Aashiqui Sabra Talab Aur Tamanna Betaab, Dil Ka Kya Rang Karu Khoon-Ae-Zigar Hone Tak. – Mirza Ghalib

10.
पीने दे शराब मस्जिद में बैठ के,
या वो जगह बता जहाँ खुदा नहीं है.

Pine De Sharaab Masjid Me Baith Ke, Ya Vo Jagah Bata Jaha Khuda Nahi Hai. – Mirza Ghalib

11.
दुनिया खरीद लेगी हर मोड़ पर तुझे,
तूने जमीर बेचकर अच्छा नहीं किया.

Duniya Khareed Legi Har Mod Par Tujhe, Tune Zameer Bechkar Achha Nahi Kiya. – Mirza Ghalib

Mirza Ghalib Shayari 2 Lines

12.
इश्क़ में जी को सब्र ओ ताब कहाँ,
उस से आँखें लड़ीं तो ख़्वाब कहाँ.
– मिर्ज़ा ग़ालिब

Ishq Me Zee Ko Sabra Oo Taab Kaha, Us Se Aankhe Ladi To Khwaab Kaha. – Mirza Ghalib

Mirza Ghalib Shayari

13.
आज फिर पहली मुलाक़ात से आग़ाज़ करूँ,
आज फिर दूर से ही देख के आऊँ उस को.

Aaj Fir Pahali Mulaqat Se Aagaaj Karu, Aaj Fir Dur Se Hi Dekh Ke Aau Us Ko. – Mirza Ghalib

14.
ता फिर न इंतिज़ार में नींद आए उम्र भर,
आने का अहद कर गए आए जो ख़्वाब में.

Ta Fir Na Intijaar Me Neend Aaye Umra Bhar,Aane Ka Ahad Kar Gaye Aaye Jo Khwaab Me. – Mirza Ghalib

15 4

15.
निकलना ख़ुल्द से आदम का सुनते आए हैं लेकिन,
बहुत बे-आबरू हो कर तिरे कूचे से हम निकले.

Nikalna Khuld Se Aadam Ka Sunte Aaye Hai Lekin, Bahut Be-Aabaru Ho Kar Tire Kuche Se Ham Nikale. – Mirza Ghalib

इन्हें भी पढ़े :- Best 70+ Mood Off Shayari In Hindi ( मूड ऑफ स्टेटस इन हिंदी )

16.
तुम न आओगे तो मरने की हैं सौ तदबीरें,
मौत कुछ तुम तो नहीं है कि बुला भी न सकूं.

Tum Na Aaoge To Marne Ki Hai Sau Tadbeerein, Maut Kuchh Tum To Nahi Hai Ki Bula Bhi Na Saku. – Mirza Ghalib

17.
लफ़्ज़ों की तरतीब मुझे बांधनी नहीं आती “ग़ालिब”.
हम तुम को याद करते हैं सीधी सी बात है.

Lafzo Ki Tastib Mujhe Bandhani Nahi Aati “Ghalib”, Ham Tum Ko Yaad Karte Hai Sidhi Si Baat Hai. – Mirza Ghalib

Mirza Ghalib Quotes in Hindi

18.
दिल से तेरी निगाह जिगर तक उतर गई,
दोनों को इक अदा में रज़ामंद कर गई.

Dil Se Teri Nigaah Zigar Tak Utar Gayi, Dono Ko Ek Ada Me Rajamand Kar Gayi. – Mirza Ghalib

19.
आह को चाहिए इक उम्र असर होते तक,
कौन जीता है तेरे ज़ुल्फ़ के सर होते तक.

Aah Ko Chahiye Ek Umra Asar Hote Tak, Kaun Jeeta €Hai Teri Zulf Ke Sar Hote Tak. – Mirza Ghalib

Mirza Ghalib Shayari in Hindi 2 Lines

20.
काबा किस मुँह से जाओगे ‘ग़ालिब’,
शर्म तुम को मगर नहीं आती.

Kaba Kis Muh Se Jaoge “Ghalib”, Sharm Tum Ko Magar Nahi Aati. – Mirza Ghalib

21 1

21.
ख्वाहिशों का काफिला भी अजीब ही है “ग़ालिब”,
अक्सर वहीँ से गुज़रता है जहाँ रास्ता नहीं होता.

Khwaahisho Ka Kafila Ajeeb Hi Hai “Ghalib”, Aksar Vahi Se Gujarta Hai Jaha Rasta Nahi Hota. – Mirza Ghalib

22.
कोई मेरे दिल से पूछे तेरे तीर-ए-नीम-कश को,
ये ख़लिश कहाँ से होती जो जिगर के पार होता.

Koi Mere Dil Se Puchhe Tere Teer-Ae-Neem-Kash Ko, Ye Khalish Kaha Se Hoti Jo Zigar Ke Paar Hota. – Mirza Ghalib

23.
देख जिंदगी इस तरह ना रुला मुझको,
हम खफा हुए तो छोड़ जायेंगे तुझे.

Dekh Zindagi Is Tarah Na Rula Mujhako, Ham Khafa Huye To Chod Jayenge Tujhe. – Mirza Ghalib

Shayari Of Ghalib On Ishq

24.
उन के देखे से जो आ जाती है मुँह पर रौनक़,
वो समझते हैं कि बीमार का हाल अच्छा है.

Un Ke Dekhe Se Jo Aa Jati Hai Muh Pe Raunak, Vo Samjhte Hai Ki Beemar Ka Haal Achha Hai. – Mirza Ghalib

Mirza Ghalib Shayari In Hindi Font

25.
इक क़ैद है आज़ादी-ए-अफ़्कार भी गोया,
इक दाम जो उड़ने से रिहाई नहीं देता.

Ek Qaid Hai Aazaadi-Ae-Afkaar Bhi Goya, Ek Daam Jo Udane Se Rihayi Nahi Deta. – Mirza Ghalib

Mirza Ghalib Shayari On Life

26.
ना कर इतना गौरव अपने नशे पे शाराब,
तुझसे भी ज्यादा नाशा रखती हें आँखे किसी की.

Na Kar Itna Gaurav Apane Nashe Pe Sharaab. Tujhase Bhi Jyaada Nasha Rakhti Hai Aankhe Kisi Ki. – Mirza Ghalib

27.
पियूँ शराब अगर ख़ुम भी देख लूँ दो चार,
ये शीशा-ओ-क़दह-ओ-कूज़ा-ओ-सुबू क्या है.

piyu Sharaab Agar Khum Bhi Dekh Lu Do Char, Ye Sheesha-Oo-Kadah-Oo Kooja-Oo-Sybu Kya Hai. – Mirza Ghalib

28.
दर्द मिन्नत-कश-ए-दवा न हुआ,
मैं न अच्छा हुआ बुरा न हुआ.

Dard Minnat-Kash-Ae-Dava Na Hua, Mai Na Achha Hua Bura Na Hua. – Mirza Ghalib

29 1

29.
तूने कसम मय-कशी की खाई है ‘ग़ालिब’,
तेरी कसम का कुछ एतिबार नही है.
– मिर्ज़ा ग़ालिब

Tune Kasam May-Kashi Ki Khayi Hai ‘Ghalib’, Teri Kasam Ka Kuch Aetibaar Nai Hai. – Mirza Ghalib

30.
पकड़े जाते हैं फ़रिश्तों के लिखे पर नाहक़,
आदमी कोई हमारा दम-ए-तहरीर भी था.

Pakde Jate Hai Farishto Ke Likhe Par Naahak, Aadami Koi Hamara Dam-Ae-Tahreer Bhi Tha. – Mirza Ghalib

इन्हें भी पढ़े :- Best 80+ Alone Shayari In Hindi 2021

31.
कौन पूछता है पिंजरे में बंद पक्षी को ग़ालिब,
याद वही आते है जो छोड़कर उड़ जाते है.

Kaun Puchhta Hai Pinjare Me Band Panchhi Ko Ghalib, Yaad Vahi Aate Hai Jo Chodkar Ud Jate Hai. – Mirza Ghalib

Mirza Ghalib Shayari On Love

32.
तू मिला है तो ये अहसास हुआ है मुझको,
ये मेरी उम्र मोहब्बत के लिए थोड़ी है.

Tu Mila Hai To Ye Ehsaas Hua Hai Mujhako, Ye Meri Umra Mohabbat Ke Liye Thodi Hai. – Mirza Ghalib

Shayari Of Ghalib On Ishq

33.
इस सादगी पे कौन न मर जाए ऐ ख़ुदा,
लड़ते हैं और हाथ में तलवार भी नहीं.
– गा़लिब

Is Saadagi pe Kaun Na Mar Jaye Ae Khuda, Ladte Hai Aur Hath Me Talvaar Bhi Nahi. – Mirza Ghalib

34.
बस एक आखिरी रस्म चल रही है हमारे दरमियाँ,
एक दूसरे को याद तो करते है पर बात नहीं करते.

Bas Ek Aakhiri Rasm Chal Rahi Hai Hamare Darmiyaan, Ek Dusare Ko Yaad Karte Hai Par Baat Nahi Karte. – Mirza Ghalib

Heart Touching Mirza Ghalib Shayari in Hindi

35.
तुम से बेजा है मुझे अपनी तबाही का गिला,
उसमें कुछ शाएबा-ए-ख़ूबिए-तक़दीर भी था.

Tum Se Beja Hai Mujhe Apani Tabaahi Ki Gila, Usame Kuch Shaayeba-Ae-Khubiye-Taqdeer Bhi Tha. – Mirza Ghalib

36.
है एक तीर जिस में दोनों छिदे पड़े हैं,
वो दिन गए कि अपना दिल से जिगर जुदा था.

Hai Ek Tir Jis Me Dono Chide Pade Hai, Vo Din Gaye Ki Apana Dil Se Zigar Juda Tha. – Mirza Ghalib

37.
अर्ज़–ए–नियाज़–ए–इश्क़ के क़ाबिल नहीं रहा,
जिस दिल पे नाज़ था मुझे वो दिल नहीं रहा.

Arz-Ae-Miyaak-Ae-Ishq Qabil Nahi Raha, Jis Dil Pe Naaz Tha Mujhe Vo Dil Nahi Raha. – Mirza Ghalib

Heart Touching Mirza Ghalib Shayari

38.
खुद को मनवाने का मुझको भी हुनर आता है,
मैं वह कतरा हूं समंदर मेरे घर आता है.

Khud Ko Manvaane Ka Mujhako Bhi Hunar Aata Hai, Mai Vah Katra Hu Samandar Mere Ghar Aata Hai. – Mirza Ghalib

Mirza Ghalib Shayari in Urdu 2 Lines

39.
कितना ख़ौफ होता है शाम के अंधेरों में,
पूछ उन परिंदों से जिनके घर नहीं होते.

Kitna Khauf Hota Hai Shaam Ke Andhero Me, Puch Un Parindo Se Jinake Ghar Nahi Hote. – Mirza Ghalib

40.
मुझे तो तोहफे में अपनों का वक़्त पसंद है
मगर आज कल इतने महंगे तोहफे देता कौन है.

Mujhe To Tohfe Me Apano Ka Waqt Pasand Hai, Magar Aaj Kal Itane Mahange Tohfe Deta Kaun Hai. – Mirza Ghalib

Mirza Ghalib 2 Line Shayari facebook

41.
क़र्ज़ की पीते थे मय लेकिन समझते थे कि हां,
रंग लावेगी हमारी फ़ाक़ा-मस्ती एक दिन.

Karz Ki Peete The May Lekin Samajhte The Ki Ha, Rang Laavegi Hamari Fafa-Masti Ek Din. – Mirza Ghalib

42.
वो रास्ते जिन पे कोई सिलवट ना पड़ सकी,
उन रास्तों को मोड़ के सिरहाने रख लिया.

Vo Raste Jin Pe Koi Silvat Na Pad Saki, Un Rasto Ko Mod Ke Sirhaane Rakh Liya. – Mirza Ghalib

Mirza Ghalib Shayari On Life

43.
ग़म-ए-हस्ती का ‘असद’ किस से हो जुज़ मर्ग इलाज,
शमा हर रंग में जलती है सहर होते तक.
– ग़ालिब

Gam-Ae-Hasti Ka ‘Asad’ Fir Se Ho Juj Marg Ilaaj, Shama Har Rang Me Jalti Hai Sahar Hote Tak. – Mirza Ghalib

Mirza Ghalib heart broken Shayari In Hindi

44.
कुछ तो तन्हाई की रातों में सहारा होता,
तुम न होते न सही ज़िक्र तुम्हारा होता.

Kuch To Tanhai Ki Raato Me Sahara Hota, Tum Na Hote Na Sahi Zikra Tumhara Hota. – Mirza Ghalib

इन्हें भी पढ़े :- Best 30+ Kashti Status With Image ( कश्ती पर शायरी )

45.
तेरे वादे पर जिये हम, तो यह जान, झूठ जाना,
कि ख़ुशी से मर न जाते, अगर एतबार होता.

Tere Wade Par Jiye Ham, To Yah Jaan, Jhuth Jana, Ki Khushi Se Mar Na Jate, Agar Etbaar Hota. – Mirza Ghalib

46.
इक शौक़ बड़ाई का अगर हद से गुज़र जाए,
फिर ‘मैं’ के सिवा कुछ भी दिखाई नहीं देता.

Ek Shauk Badhayi Ka Agar Had Se Gujar Jaye, Fir Mai Ke Siva Kuch Bhi Dikhayi Nahi Deta. – Mirza Ghalib

47 2

47.
हमको मालूम है जन्नत की हक़ीक़त लेकिन,
दिल के खुश रखने को ‘ग़ालिब’ ये ख़्याल अच्छा है.

Hamko Maloom Hai Jannat Ki Hakikat Lekin, Dil Ke Khush Rakhne Ko Ghalib Ye Khyaal Achha Hai. – Mirza Ghalib

Mirza Ghalib 2 Line Shayari facebook

48.
भीगी हुई सी रात में जब याद जल उठी,
बादल सा इक निचोड़ के सिरहाने रख लिया.

Bhigi Huyi Si Raat Me Jab Yaad Jal Uthi, Badal Sa Ek Nichod Ke Sirhane Rakh Liya. – Mirza Ghalib

49.
गुज़र रहा हू यहाँ से भी गुज़र जाउँगा.
मै वक़्त हू कहीं ठहरा तो मर जाउँगा.

Gujar Raha Hu Yaha Se Bhi Gujar Jaaunga, Mai Waqt Hu Kahi Thahra To Mar Jaunga. – Mirza Ghalib

Mirza Ghalib heart broken Shayari

50.
उदास फिरता है मोहल्ले में बारिश का पानी,
वो करिश्या बनाने वाले बच्चे अब इश्क कर बैठे हैं

Udas Firta Hai Mohalle Me Barish Ka Pani, Vo Kashtiya Banane Vale Bachche Ab Ishq Kar Baithe Hai. – Mirza Ghalib

51.
उस पर उतरने की उम्मीद बहुत कम है,
कश्ती भी पुरानी है और तूफ़ान को भी आना है.

Us Par Utarne Ki Ummid Bahut Kam Hai, Kashti Bhi purani Hai Aur Tufaan Ko Bhi Aana Hai. – Mirza Ghalib

Mirza Ghalib heart broken Shayari In Hindi

52.
अगले वक़्तों के हैं ये लोग इन्हें कुछ न कहो,
जो मय ओ नग़्मा को अंदोह-रुबा कहते हैं.

Agale Waqto Ke Hai Ye Log Inhe Kuch Na Kaho, Jo May Oo Nagma Ka Andoh-Ruba Kahte Hai. – Mirza Ghalib

Mirza Ghalib Shayari in Urdu 2 Lines

53.
सादगी पर उस के मर जाने की हसरत दिल में है,
बस नहीं चलता की फिर खंजर काफ-ऐ-क़ातिल में है.

Saadagi Par Us Ke Mar Jane Ki Hasrat Dil Me Hai, Bas Nahi Chalta Fir Khanjar Kaaf-Ae-Qatil Me Hai. – Mirza Ghalib

54.
बाज़ीचा-ए-अतफ़ाल है दुनिया मिरे आगे,
होता है शब-ओ-रोज़ तमाशा मिरे आगे.

Bagicha-E-Atafaal Hai Diniya Mire Aage, Hota Hai Shab- O-Roz Tamasha Mire Aage. – Mirza Ghalib

55.
हम तो जाने कब से हैं आवारा-ए-ज़ुल्मत मगर,
तुम ठहर जाओ तो पल भर में गुज़र जाएगी रात.

Ham To Jane Kab Se Avara-Ae-Julmat Magar, Tum Thahar Jaao To Pal Bhar Me Gujar Jayegi Raat. – Mirza Ghalib

Mirza Ghalib Shayari On Life in Urdu

56.
आज यह प्रार्थना इश्क़ के काबिल नहीं रहा,
जिस दिल पे मुझे नाज था वो दिल नहीं रहा.

Aaj Yah Prarthna Ishq Ke Qabil Nahi Raha, Jis Dil Pe Mujhe Naaj Tha Vo Dil Nahi Raha. – Mirza Ghalib

Heart Touching Mirza Ghalib Shayari in Hindi

57.
ग़ालिब ने यह कह कर तोड़ दी तस्बीह.
गिनकर क्यों नाम लू उसका जो बेहिसाब देता है.

Ghalib Te Yah Kahkar Tod Di Tasbeeh, Ginkar Kyo Naam Lu Uska Jo Behisaab Deta Hai. – Mirza Ghalib

इन्हें भी पढ़े :- Best 40+ Humsafar Status Hindi With Image

58.
मोहब्बत मै उनकी आना का पास रखते है,
हम जानकर भी अक्सर उन्हें नाराज़ रखते है.

Mohabbat Me Unka Aana Ka Paas Rakhte Hai, Ham Jaankar Bhi Aksar Unhe Naaraaz Rakhte Hai. – Mirza Ghalib

Ghalib Shayari In Hindi Font

59.
मोहब्बत में नहीं है फ़र्क़ जीने और मरने का,
उसी को देख कर जीते हैं जिस काफ़िर पे दम निकले.

Mohabbat Me Nahi Hai Fark Jeene Aur Marne Ka, Usi Ko Dekh kar Jeete Hai Jis Kafir Pe Dam Nikale. – Mirza Ghalib

60.
आज हम अपनी परेशानी-ए-ख़ातिर उन से,
कहने जाते तो हैं पर देखिए क्या कहते हैं.

Aaj Ham Apani Pareshani-Ae-Khatir Un Se, Kahne Jate To Hai Par Dekhiye Kya Kahte Hai. – Mirza Ghalib

61

61.
आया है मुझे बेकशी इश्क़ पे रोना ग़ालिब,
किस का घर जलाएगा सैलाब भला मेरे बाद.

Aaya Hai Mujhe Bekashi Ishq Pe Rona Ghalib, Kis Ka Ghar Jalaayega Sailaab Bhala Mere Baad. – Mirza Ghalib

62.
जी ढूँडता है फिर वही फ़ुर्सत कि रात दिन,
बैठे रहें तसव्वुर–ए–जानाँ किए हुए.

Zee Dhundhta Hai Fir Vahi Fursat Ki Raat Din, Baithe Rahe Tasavvur-Ae-Jana Kiye Huye. – Mirza Ghalib

Mirza Ghalib Shayari On Life in Urdu

63.
वो जो काँटों का राज़दार नहीं,
फ़स्ल-ए-गुल का भी पास-दार नहीं.

Vo jo Kaato Ka Raajdaar Nahi, Fasl-Ae-Gul Ka Bhi Paas-Daar Nahi. – Mirza Ghalib

64.
चाँदनी रात के खामोश सितारों की कसम,
दिल में अब तेरे सिवा कोई भी आबाद नहीं.

Chaandani Raat Ke Khamosh Sitaario Ki Kasam, Dil Me Ab Tere Siva Koi Bhi Aabaad Nahi. – Mirza Ghalib

Final Word :-

आशा करता हूँ कि आपको हमारा Mirza Ghalib Shayari In Hindi का पोस्ट जरुर पसंद आया होगा, इसी तरह के और शायरी या स्टेटस को पढ़ने के लिए आप हमारे और भी पोस्ट को एक बार जरूर देखे.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *