Great Lord Krishna Quotes In Hindi & English  { 200+ Powerful Quotes }

Lord Krishna Quotes में आप पढ़ सकते हैं  Powerful Motivational  “Lord Krishna Quotes On Life ” को, जो ज्ञान के सागर से भरे Shrimad Bhagavad Gita Updesh से लिया गया हैं। 

दोस्तों आज की पोस्ट बहुत ही खास होने वाली हैं, क्युकी आज की पोस्ट “Lord Krishna Quotes” पर आधारित हैं. जो आपके अंदर उपज रहे नकारात्मक सोच को दूर करते हुए सकारात्मक सोच का संचार करेगा। और साथ ही जीवन के कठिन मार्ग को सरल बनाते हुए तमाम कष्टों का निवारण करेगा।

Srimad Bhagavad Gita Quotes में जानेंगे  श्री कृष्ण द्वारा महाभारत के महानायक अर्जुन को दिए गए अत्याध्य्मिक उपदेशों  सहित उसमे छुपे रहस्य और ज्ञान की बाते, जो आपके जीवन को अधर्म मार्ग से हटाके सत्य मार्ग की और लाएगा साथ ही साथ आपके विचारो में एक नयी ऊर्जा प्रदान करेगा। 

जैसा की दोस्तों अधिकतर देखा गया हैं की जब भी गीता का नाम आता हैं तो उसे लोग धार्मिक ग्रन्थ मानते हुए हुए इसे हिन्दू धर्म से जोड़ते हैं. और साथ ही इसे आज कल के Generation इस धार्मिक ग्रंथ को Ignore करते हैं. और इसका अध्यन नहीं करते। सचाई यह की गीता धार्मिक ग्रंथ ही नहीं यह एक सर्व ज्ञान का भंडार हैं।

कम शब्दों में कहे तो Srimad Bhagavad Gita उन तमाम लोगो के लिए हैं जो सही मार्ग से भटक गए हो चिंता और संदेह के घेरे में घिरे हुए हो और अपने आप को लाचार व  बेबस,  बेसहारा समझ रहे हो.  उनके लिए यह गीता का ग्रन्थ Motivational Counseling की तरह हैं. जो आपके अंदर से Negative Think  को समाप्त करते हुए  Positive सोच को लाता हैं और जीवन का सही मूल्य और उद्देश्य से परिचत करता हैं. 

वही एक तरफ आज की Generation इसे नजरअंदाज करते हुए दूसरे लोगो द्वारा लिखी गयी Motivational Quotes, Thoughts   को पढ़ते हैं और सुनते हैं लेकिन सबसे बड़े ज्ञान के अथाह सागर से भरे Shrimad Bhagavad Gita का अध्यन नहीं करते। मात्र  इस सोच के साथ की यह एक हिन्दुओं का धार्मिक ग्रन्थ हैं. 

Lord Krishna Quotes

दोस्तों जैसा की मैंने कहा था ऊपर की आज की पोस्ट कुछ ख़ास हैं और वो खास इस लिए हैं की आप सभी के लिए ज्ञान के सबसे बड़े भण्डार से लिए गए कुछ अनमोल उपदेशों को आप के साथ सरल भाषा में में इस आर्टिकल में शेयर करने जा रहा हूँ , जिसे पढ़ कर आप के अंदर छुपे Negative Think को दूर करेगा और साथ ही आपके अंदर एक नयी ऊर्जा का संचार करेगा Positive Think के साथ..

What Is A Srimad Bhagavad Gita?

दोस्तों आप  के मन में ये विचार आता होगा की आखिर श्रीमद भगवद गीता क्या हैं? इसमें ऐसा क्या रहस्य छिपा हुआ हैं जो इसे ज्ञान से भरा ग्रंथ माना जाता हैं  आईये इसी विषय पर बात करते हैं और आप को संक्षेप में बताते हैं की आखिर यह महान ग्रंथ कैसे बना? और साथ ही में श्री कृष्ण द्वारा दिए गए उपदेशों को भी पढ़ेंगे Great Lord Krishna Quotes के इस Post में.

Shrimad Bhagavad Gita एक उपदेश हैं. जो दुनिया के सबसे बड़े धर्म युद्ध महाभारत के कुरुक्षेत्र की युद्धभूमि में श्रीकृष्ण द्वारा अर्जुन को को दिए गए उपदेशो से प्रेरित हैं जिसमे भगवान् श्रीकृष्ण  ने अर्जुन को उस समय उपदेश दिया जब  महाभारत का महानायक अर्जुन इस युद्ध को लेकर चिंतित और हतास थे. 

अर्जुन की हताशा और निराशा को देखते हुए Shri Krishna ने अपने विराट रूप में आये और वही उन्होंने गीता का उपदेश दिया जो आज श्रीमद भगवद गीता के नाम से जाना जाता हैं.

ज्ञान और अध्यात्म से भरे इस पवित्र ग्रंथ में को 18  अध्याय हैं और इसमें  700 श्लोक हैं.  जिसमे धर्म-अधर्म और जीवन से जुडी हर एक छोटी से छोटी बातो का सार पाया जाता हैं. जिसे हम अपने जीवन में अपना कर कठिन से कठिन मार्ग को सुगम और सरल बना सकते हैं. गीता के 18 अध्यायों में आपके अंदर छिपे सभी सवालो के जवाब मिलेंगे 

Lord Krishna Quotes

श्रीमद भगवद गीता के 18  अध्याय

पहला अध्याय:-  का नाम अर्जुनविषादयोग है. जो इस ग्रन्थ में दिए गए उपदेशों को नाटकीय रंगमंच की तरह प्रस्तुत करता हैं.

दूसरा अध्याय:- का नाम सांख्ययोग है।  जिसमे दो प्राचीन संमानित परंपराओं के जीवन को तर्कों द्वारा वर्णन किया गया हैं.

तीसरा  अध्याय:- में अर्जुन ने अपने ह्रदय में उठ रहे प्रश्नों को किया हैं और पूछा हैं की, सांख्य और योग के  मार्गों में आप इसे उत्तम मानते हैं. और मैं किस मार्ग का चयन करू?

चौथा अध्याय:- का नाम ज्ञान-कर्म-संन्यास-योग है.  इसमें बताया गया हैं कि अपने कर्मों को करते हुए कैसे ज्ञान को प्राप्त करे साथ ही कैसे कर्मसंन्यास का फल मिलता हैं?

पाँचवा अध्याय:- का नाम कर्मसंन्यास योग है.  इसमें चौथे अध्याय में किये गए प्रश्नो का विरहद रूप से उत्तर दिया गया हैं साथ ही बतया गया हैं की कर्म के साथ जो मन का क्या संबंध है, 

छठा  अध्याय:- का नाम आत्मसंयम योग है. इसमें बताया गया हैं कि अपनी इंद्रियों को संयम करते हुए कर्म और ज्ञान की और बढ़ाना तथा उसका सम्पूर्ण निचोड़ दर्शाया गया हैं.

सातवां अध्याय:- का नाम  संज्ञा ज्ञानविज्ञान योग है. जिसमे प्राचीन भारतीय दर्शन की दो परिभाषाएँ हैं. जिसका  वर्णन किया गया हैं. जो विज्ञान शब्द यानी वैदिक दृष्टि से अत्याधिक महत्वपूर्ण हैं.

आठवां अध्याय:-  की संज्ञा अक्षर ब्रह्मयोग है. इसमें उपनिषदों  अक्षर विद्या का विस्तार किया गया हैं . अक्षरविद्या का सम्पूर्ण सार  मिलता हैं.

नवां अध्याय:- का नाम राजगुह्ययोग है. जो अध्यात्म विद्या विद्याराज्ञी है और इस गुह्य ज्ञान को इस अध्याय में सबमें श्रेष्ठ माना गया है. 

दसवां अध्याय:- का नाम विभूतियोग है. इसमें दर्शाया गया हैं की जितने भी देवता हैं  वो एक ही भगवान् का अलग अलग रूप हैं. जो मनुष्य के समस्त गुण और अवगुण को देखता हैं.

ग्यारहवां अध्याय:- का नाम विश्वरूपदर्शन योग है. इसमें श्रीकृष्ण ने अपना विराट रूप का दर्श दिया हैं अर्जुन को.

बारहवां अध्याय:- का नाम भक्तियोग हैं.  

तेरहवां अध्याय:-  में  भगवान् ने क्षेत्र (शरीर) तथा क्षेत्रज्ञ (आत्मा) के लक्षण को बताया हैं.  

चौदहवां अध्याय:- का नाम गुणत्रय विभाग योग. जिसमे समस्त वैदिक, दार्शनिक और पौराणिक तत्वचिंतन का निचोड़ है-सत्व, रज, तम नामक तीन गुण-त्रिको की अनेक व्याख्याएँ हैं. 

पन्द्रहवां अध्याय:- का नाम पुरुषोत्तमयोग है. इस अध्याय में विश्व का अश्वत्थ के रूप से वूस्टर पूर्वक वर्णन किया गया है.

सोलहवां  अध्याय:- को देवासुर संपत्ति का विभाग बताया गया है. 

सत्रहवाँ अध्याय:- का नाम श्रद्धात्रय विभाग योग हैं.  और इसका संबंध सत, रज और तम,   के  गुणों के विषय में बताया गया हैं.

अठारहवाँ  अध्याय:- का नाम मोक्षसंन्यास योग है. इसमें गीता के समस्त उपदेशों का सार एवं उपसंहार है. 


दोस्तों जैसा की आपने जाना श्रीमद भगवत गीता के बारे में तथा इस ग्रंथ में  छिपे ज्ञान और अध्यात्म के बारे में और साथ ही जाना आप ने आखिर क्यों इसे दुनिया का सबसे महान ग्रन्थ कहा जाता हैं और अधिक विस्तार से जानने के लिए wikipedia के पेज को भी देखे जहा आपके अंदर छिपे और भी सवालों का जवाब मिलेगा। 

 

Great Lord Krishna Quotes In Hindi & English 

 

 

This powerful Short quote of Lord Krishna 

 The faith of each is in accordance with one’s own nature.

हर व्यक्ति का विश्वास उसकी प्रकृति के अनुसार होता है।।


The mind alone is one’s friend as well as one’s enemy.

केवल मन ही किसी का मित्र और शत्रु होता है।।


  Do not worry at all as long as you do good work.

जब तक आप अच्छा काम करते हैं, तब तक चिंता न करें।।


 Life is so unpredictable and full of twists and turns.

 

जीवन इतना अप्रत्याशित और मोड़ और मोड़ से भरा है।।


True,happiness is a state of mind.

सच है, खुशी मन की एक स्थिति है।।


 Worries help or build nothing in life.

चिंता जीवन में कुछ भी मदद या निर्माण नहीं करती है।।


 

Whatever happens is all for a reason.

जो भी होता है वह सब एक कारण से होता है।।


Focus on what you do, not results, in anything.

आप जो भी करते हैं उस पर ध्यान केंद्रित करें, परिणाम नहीं, किसी भी चीज में।।


 Desire is one of the greatest destructions of happiness.

 

इच्छा खुशी के सबसे बड़े विनाश में से एक है।।


Krishna Quotes

Hell has three gates: lust, anger, and greed.

 नर्क के तीन द्वार हैं: वासना, क्रोध और लालच।।


 God is in everything as well as above everything.

भगवान प्रत्येक वस्तु में है और सबके अंदर भी।।


Shri Krishna Quotes

 The wise do not rejoice in sensual pleasures.

बुद्धिमान व्यक्ति कामुक सुख में आनंद नहीं लेता।।


It is Nature that causes all movement.

यह तो स्वभाव है जो की आंदोलन का कारण बनता है।।


 

 Every reward is all in what you do now.

 

आप अब जो करते हैं उसमें हर इनाम है।।


श्रीमद्भगवद्गीता के अनमोल वचन

 Having the right attitude matters a lot in anything.

 

सही रवैया होना किसी भी चीज में बहुत मायने रखता है।।


श्रीमद्भगवद्गीता अनमोल वचन

 I am seated in the hearts of all beings.

मैं सभी प्राणियों के ह्रदय में विद्यमान हूँ।।


19:- Karma-yoga is a supreme secret indeed.

कर्म योग वास्तव में एक परम रहस्य है।।


  Unnatural work produces too much stress.

अप्राकृतिक कर्म बहुत तनाव पैदा करता है।।


Bhagavad Gita Quotes

 I am the beginning, middle, and end of creation.

 

मैं सृष्टि का आरंभ, मध्य और अंत हूं।।


Set thy heart upon thy work, but never on its reward.

अपने कर्म पर अपना दिल लगायें, ना की उसके फल पर।।


 Hell has three hates: lust, anger and greed.

 

नरक तीन चीजों से नफरत करता है: वासना, क्रोध और लोभ।।


Bhagavad Gita Quotes From Krishna

 There is nothing lost or wasted in this life.

इस जीवन में ना कुछ खोता है ना व्यर्थ होता है।।


All the scriptures lead to me, I am their author and their wisdom.

 

सारे शास्त्र मेरे पास ले जाते हैं,  मैं उनका लेखक और उनकी बुद्धि हूँ।।


 I am time, the destroyer of all, I have come to consume the world.

मैं समय हूँ, सभी का नाश करने वाला, मैं दुनिया का उपभोग करने आया हूं।।


Great Lord Krishna Quotes

 

Bhagavad Gita Quotes by  Krishna

 Man is made by his belief. As he believes, so he is.

मनुष्य अपने विश्वास से बनता है। जैसा वह मानता है, वैसे ही वह है।।


 Strive to still your thoughts. Make your mind one-pointed in meditation.

 

अभी भी अपने विचारों के लिए प्रयास करें। ध्यान में अपने मन को एक तरफ कर लें।।


Karma does not bind one who has renounced work.

 

कर्म उसे नहीं बांधता जिसने काम का त्याग कर दिया है।।


 They all attain perfection When they find joy in their work.

 जब वे अपने कार्य में आनंद खोज लेते हैं तब वे पूर्णता प्राप्त करते हैं।।


Works do not bind Me, because I have no desire for the fruits of work.

 कर्म मुझे बांधता नहीं, क्योंकि मुझे कर्म के प्रतिफल की कोई इच्छा नहीं।।


 To the illumined man or woman, a clod of dirt, a stone, and gold are the same.

प्रबुद्ध व्यक्ति के लिए, गंदगी का ढेर, पत्थर, और सोना सभी समान हैं।।


 Man is made by his belief. As he believes, so he is.

मनुष्य अपने विश्वास से निर्मित होता है. जैसा वो विश्वास करता है वैसा वो बन जाता है।।


 Who do not control the mind, For them he acts like enemy.

 जो मन को नियंत्रित नहीं करते उनके लिए वह शत्रु के सामान कार्य करता है।।


  The wise sees knowledge and action as one; they see truly.

 ज्ञानी व्यक्ति ज्ञान और कर्म को एक रूप में देखता है, वही सही मायने में देखता है।।


 

 Creation is only the projection into form of that which already exists.

 निर्माण केवल पहले से मौजूद चीजों का प्रक्षेपण है।।

38 

Best  Lord Krishna Motivational Quotes

 

  He who sees Me everywhere, and sees everything in Me, I am not lost to him, nor is he lost to me.

 

वह जो मुझे हर जगह देखता है, और मेरे बारे में सब कुछ देखता है, मैं उससे नहीं हारा और न ही वह मुझसे हारा है।।


 The mind is restless and difficult to restrain, but it is subdued by practice.

 

मन अशांत है और उसे नियंत्रित करना कठिन है, लेकिन अभ्यास से इसे वश में किया जा सकता है।।


 There is nothing, animate or inanimate, that can exist without Me.

 

 ऐसा कुछ भी नहीं , चेतन या अचेतन, जो मेरे बिना अस्तित्व में रह सकता हो।।


 

 A man who turns away from the desire for results, makes his life successful.

फल की अभिलाषा छोड़कर कर्म करने वाला पुरुष ही अपने जीवन को सफल बनाता है।।


Great Bhagavad Gita Quotes From Krishna

 Your mind is your best friend as well as your greatest enemy.

 

आपका मन आपका सबसे अच्छा दोस्त होने के साथ-साथ आपका सबसे बड़ा दुश्मन भी है।।


 he ignorant work for their own profit; the wise work for the welfare of the world, without thought for themselves.

 

वह अपने स्वयं के लाभ के लिए अज्ञानी काम करता है; दुनिया के कल्याण के लिए बुद्धिमान काम, खुद के लिए विचार के बिना।।


 He who has no attachments can really Love others, for his love is pure and divine.

 

जिसके पास कोई जुड़ाव नहीं है वह वास्तव में दूसरों से प्रेम कर सकता है, क्योंकि उसका प्रेम शुद्ध और दिव्य है।।


 The mind acts like an enemy for those who do not control it.

 

जो मन को नियंत्रित नहीं करते उनके लिए वह शत्रु के समान कार्य करता है।।


Great Bhagavad Gita Quotes

 I give the knowledge, to those who are ever united with Me and lovingly adore Me.

 

 मैं उन्हें ज्ञान देता हूँ जो सदा मुझसे जुड़े रहते हैं और जो मुझसे प्रेम करते हैं।।


 A Self-realized person does not depend on anybody except God for anything.

 

 प्रबुद्ध व्यक्ति सिवाय ईश्वर के किसी और पर निर्भर नहीं करता।।


 The one who sees inaction in action, and action in inaction, is a wise person.

 

जो कार्य में निष्क्रियता और निष्क्रियता में कार्य देखता है वह एक बुद्धिमान व्यक्ति है।।


 Both you and I have taken many births. I remember them all, O Arjuna, but you do not remember.

 

हे अर्जुन ! हम दोनों ने कई जन्म लिए हैं. मुझे याद हैं, लेकिन तुम्हे नहीं।।


 The wise should work without attachment, for the welfare of the society.

 

बुद्धिमान व्यक्ति को समाज कल्याण के लिए बिना आसक्ति के काम करना चाहिए।।


Great Lord Krishna Quotes In Hindi & English 

 

  Those who long for success in their work here [on the earth] worship the demigods.

 

जो इस लोक में अपने काम की सफलता की कामना रखते हैं वे देवताओं का पूजन करें।।


Lord Krishna Powerful Quotes

  I give heat, I send as well as withhold the rain, I am immortality as well as death.

 

 मैं ऊष्मा देता हूँ, मैं वर्षा करता हूँ और रोकता भी हूँ, मैं अमरत्व भी हूँ और मृत्यु भी।।


 Those who have no faith in this knowledge follow the cycle of birth and death without attaining Me.

 

वह जो इस ज्ञान में विश्वास नहीं रखते, मुझे प्राप्त किये बिना जन्म और मृत्यु के चक्र का अनुगमन करते हैं।।


  Man is created by his belief. As he believes, he becomes what he is.

 

मनुष्य अपने विश्वास से निर्मित होता है। जैसा वह विश्वास करता है वैसा वह बन जाता है ।


Lord Krishna Inspirational  Quotes

 There is no happiness for the person who always doubts the person or anyone else in this world.

सदैव सन्दहे करने वाले व्यक्ति के लिए प्रसन्नता न इस लोक में है न ही कही और।


  Performing the duty prescribed by (one’s own) nature, one incurreth no sin.

 

अपने कर्त्तव्य का पालन करना जो की प्रकृति द्वारा निर्धारित किया हुआ हो, वह कोई पाप नहीं है।


 Feelings of heat and cold, pleasure and pain, are caused by the contact of the senses with their objects. They come and they go, never lasting long. You must accept them.

 

गर्मी और सर्दी, खुशी और दर्द की भावनाएं, उनकी वस्तुओं के साथ होश से संपर्क के कारण होता है। वे आते हैं और चले जाते हैं, लम्बे समय तक बरक़रार नहीं रहते हैं। आपको उन्हें स्वीकार करना चाहिए।


  I am the Atma abiding in the heart of all beings. I am also the beginning, the middle, and the end of all beings.

 

में आत्मा हूँ, जो सभी प्राणियों के हृदय/दिल से बंधा हुआ हूँ। मैं साथ ही शुरुवात हूँ, मध्य हूँ और समाप्त भी हूँ सभी प्राणियों का।


Great Lord Krishna Quotes

 

 The wise unify their consciousness and abandon attachment to the fruits of action.

 

बुद्धिमान अपनी चेतना को एकजुट करना चाहिए और फल के लिए इच्छा/लगाव छोड़ देना चाहिए।


 Pleasures conceived in the world of the senses have a beginning and an end and give birth to misery, Arjuna.

 

इन्द्रियों की दुनिया में कल्पना सुखों की एक शुरुवात है और अंत भी जो दुख को जन्म देता है, हे अर्जुन।


My dear Arjuna, only by undivided devotional service can I be understood as I am, standing before you, and can thus be seen directly. Only in this way can you enter into the mysteries of My understanding.

 

मेरे प्रिय अर्जुन, केवल अविभाजित भक्ति सेवा को में समझता हूँ, मैं आपसे पहले खड़ा हूँ, और इस प्रकार सीधे देख सकता हूँ। केवल इस तरह से ही आप मेरे मन के रहस्यों तक पहुँच सकते हो।


Selfish action imprisons the world. Act selflessly, without any thought of personal profit.

 

स्वार्थ से भरा हुआ कार्य इस दुनिया को कैद में रख देगा। अपने जीवन से स्वार्थ को दूर रखें, बिना किसी व्यक्तिगत लाभ के।


The cause of the distress of a living entity is forgetfulness of his relationship with God.

 

एक जीवित इकाई/रहने वाले मनुष्यों, के संकट का कारण होता है भगवान/परमेश्वर के साथ अपने रिश्ते को भुला देना।


 There was never a time when I did not exist, nor you, nor any of these kings. Nor is there any future in which we shall cease to be.

 

ऐसा कोई समय नहीं था जब मेरा अस्तित्व ना हो, ना तुम, ना ही इनमे से कोई राजा। और ऐसा ना ही कोई भविष्य है जहाँ हमें कोई रोक सके।


 Reshape yourself through the power of your will; never let yourself be degraded by self-will. The will is the only friend of the Self, and the will is the only enemy of the Self.

 

अपनी इच्छा शक्ति के माध्यम से अपने आपको नयी आकृति प्रदान करें। कभी भी स्वयं को अपन आत्म इच्छा से अपमानित न करें। इच्छा एक मात्र मित्र/दोस्त होता है स्वयं का, और इच्छा ही एक मात्र शत्रु है स्वयं का।


Our mistake is in taking this for ultimate reality, like the dreamer thinking that nothing is real except his dream.

 

हमारी गलती अंतिम वास्तविकता के लिए यह ले जा रहा है, जैसे सपने देखने वाला यह सोचता है की उसके सपने के अलावा और कुछ भी सत्य नहीं है।


 We never really encounter the world; all we experience is our own nervous system.

 

हम कभी वास्तव में दुनिया की मुठभेड़ में घुसते, हम बस अनुभव करते हैं अपने तंत्रिता तंत्र को।


Blessed is human birth, even the dwellers in heaven desire this birth, for true knowledge and pure Love may be attained only by a human being.

 

धन्य है मानव जन्म, स्वर्ग में रहने वाले भी इस जन्म की इच्छा रखते हैं, क्योंकि सच्चे ज्ञान और शुद्ध प्रेम की प्राप्ति केवल मनुष्य को ही हो सकती है।


 Among weapons I am the thunderbolt, among cows I am the wish fulfilling cow called Surabhi, among serpents I am Vasuki, I am the progenitor, the god of Love.

 

हथियारों के बीच मैं वज्र हूं, गायों के बीच मैं सुरभि नामक गाय की इच्छा पूरी करने वाला हूं, नागों के बीच मैं वासुकी हूं, मैं पूर्वज हूं, प्रेम का देवता हूं।


 

Great Bhagavad Gita Quotes

 

 I am death, which overcomes all, and the source of all beings still to be born.

मैं मृत्यु हूं, जो सभी पर हावी है, और सभी प्राणियों का स्रोत अभी भी पैदा होना है।


 

 Pleasure from the senses seems like nectar at first, but it is bitter as poison in the end.

इंद्रियों से प्रसन्नता पहली बार अमृत की तरह लगती है, लेकिन अंत में जहर के रूप में कड़वी होती है।


 When meditation is mastered, the mind is unwavering like the flame of a lamp in a windless place.

जब ध्यान में महारत हासिल होती है, तो मन एक हवाहीन जगह पर दीपक की लौ की तरह अटूट होता है।


 You and I have passed through many births, Arjuna. You have forgotten, but I remember them all.

 

आप और मैं कई जन्मों से गुजरे हैं, अर्जुन। आप भूल गए हैं, लेकिन मैं उन सभी को याद करता हूं।


 Actions do not cling to me because I am not attached to their results. Those who understand this and practice it live in freedom.

 

क्रियाएँ मुझसे नहीं जुड़ीं क्योंकि मैं उनके परिणामों से जुड़ा नहीं हूँ। जो लोग इसे समझते हैं और इसका अभ्यास करते हैं वे स्वतंत्रता में रहते हैं।


 Even if you were the most sinful of sinners, Arjuna, you could cross beyond all sin by the raft of spiritual wisdom.

 

भले ही आप पापियों में सबसे अधिक पापी थे, अर्जुन, आप आध्यात्मिक ज्ञान की छाप से सभी पापों को पार कर सकते हैं।


As the heat of a fire reduces wood to ashes, the fire of knowledge burns to ashes all karma.

 

जैसे अग्नि की गर्मी लकड़ी को राख के रूप में कम कर देती है, ज्ञान की आग सभी कर्मों को जलाकर राख कर देती है।


 Those who surrender to Brahman all selfish attachments are like the leaf of a lotus floating clean and dry in water. Sin cannot touch them.

जो ब्राह्मण के लिए आत्म-समर्पण करते हैं, वे सब कमल के पत्ते की तरह होते हैं जो पानी में साफ और सूखे तैरते हैं। पाप उन्हें छू नहीं सकता।


 Those who cannot renounce attachment to the results of their work are far from the path.

जो लोग अपने काम के परिणामों के प्रति लगाव का त्याग नहीं कर सकते, वे रास्ते से बहुत दूर हैं।


 Wherever the mind wanders, restless and diffuse in its search for satisfaction without, lead it within; train it to rest in the Self.

 

जहां भी मन भटकता है, बेचैन होता है और बिना संतुष्टि के उसकी खोज में फैलता है, उसे भीतर ले जाता है; इसे सेल्फ में आराम करने के लिए प्रशिक्षित करें।


 No one who does good work will ever come to a bad end, either here or in the world to come.

 

अच्छा काम करने वाला कोई भी व्यक्ति कभी भी, यहाँ या दुनिया में आने वाले बुरे अंत में नहीं आएगा।


 The states of sattva, rajas, and tamas come from me, but I am not in them.

 

सत्त्व, रज और तम की अवस्थाएँ मुझ से आती हैं, लेकिन मैं उनमें नहीं हूँ।


 I am easily attained by the person who always remembers me and is attached to nothing else. Such a person is a true yogi, Arjuna.

 

मुझे आसानी से उस व्यक्ति की प्राप्ति हो जाती है जो मुझे हमेशा याद रखता है और कुछ नहीं से जुड़ा होता है। ऐसा व्यक्ति सच्चा योगी होता है, अर्जुन।


 

Great Lord Krishna Quotes

 

 Every creature in the universe is subject to rebirth, Arjuna, except the one who is united with me.

ब्रह्मांड में प्रत्येक प्राणी पुनर्जन्म, अर्जुन के अधीन है, सिवाय उसके जो मेरे साथ एकजुट है।


 Those who worship me and meditate on me constantly, without any other thought – I will provide for all their needs.

जो मेरी पूजा करते हैं और लगातार मेरा ध्यान करते हैं, बिना किसी अन्य विचार के – मैं उनकी सभी आवश्यकताओं की पूर्ति करूंगा।


 The brightness of the sun, which lights up the world, the brightness of the moon and of fire – these are my glory.

सूरज की चमक, जो दुनिया को रोशन करती है, चाँद की चमक और आग की – ये मेरी शान हैं।


 Calmness, gentleness, silence, self-restraint, and purity, these are the disciplines of the mind.

शांति, सौम्यता, मौन, आत्म संयम और पवित्रता, ये मन के विषय हैं।


I give you these precious words of wisdom, reflect on them and then do as you choose.

मैं तुम्हें ज्ञान के ये अनमोल वचन देता हूं, उन पर प्रतिबिंबित करें और फिर जैसा आप चुनते हैं वैसा ही करें।


 You are what you believe in. You become that which you believe you can become.

आप वह हैं, जिस पर आप विश्वास करते हैं। आप वह बन जाते हैं, जो आप मानते हैं कि आप बन सकते हैं।


The actions of a great man are an inspiration for others. Whatever he does becomes a standard for others to follow.

एक महान व्यक्ति के कार्य दूसरों के लिए प्रेरणा हैं। वह जो कुछ भी करता है वह दूसरों के अनुसरण के लिए एक मानक बन जाता है।


 The actions of a great man are an inspiration for others. Whatever he does becomes a standard for others to follow.

एक महान व्यक्ति के कार्य दूसरों के लिए प्रेरणा हैं। वह जो कुछ भी करता है वह दूसरों के अनुसरण के लिए एक मानक बन जाता है।


 As the kindled fire consumes the fuel, so in the flame of wisdom the embers of action are burnt to ashes.

चूंकि जलती हुई आग ईंधन का उपभोग करती है, इसलिए ज्ञान की लौ में क्रिया के अंगारे जलकर राख हो जाते हैं।


I look upon all creatures equally; none are less dear to me and none more dear. But those who worship me with love live in me, and I come to life in them.

 

मैं सभी प्राणियों को सामान रूप से देखता हूँ; ना कोई मुझे कम प्रिय है ना अधिक. लेकिन जो मेरी प्रेमपूर्वक आराधना करते हैं वो मेरे भीतर रहते हैं और मैं उनके जीवन में आता हूँ.


One attains the eternal imperishable abode by My grace, even while doing all duties, just by taking refuge in Me.

 

मेरी कृपा से कोई सभी कर्तव्यों का निर्वाह करते हुए भी बस मेरी शरण में आकर अनंत अविनाशी निवास को प्राप्त करता है.


 Neither do I see the beginning nor the middle nor the end of Your Universal Form.

 

आपके सार्वलौकिक रूप का मुझे न प्रारंभ न मध्य न अंत दिखाई दे रहा है.


I am the sweet fragrance in the earth. I am the heat in the fire, the life in all living beings, and the austerity in the ascetics.

 

मैं धरती की मधुर सुगंध हूँ. मैं अग्नि की ऊष्मा हूँ, सभी जीवित प्राणियों का जीवन और सन्यासियों का आत्मसंयम हूँ.


There was never a time when I, you, or these kings did not exist; nor shall we ever cease to exist in the future.

 

कभी ऐसा समय नहीं था जब मैं, तुम,या ये राजा-महाराजा अस्तित्व में नहीं थे, ना ही भविष्य में कभी ऐसा होगा कि हमारा अस्तित्व समाप्त हो जाये.


The one who truly understands My transcendental birth and activities, is not born again after leaving this body and attains My abode.

 

वह जो वास्तविकता में मेरे उत्कृष्ट जन्म और गतिविधियों को समझता है, वह शरीर त्यागने के बाद पुनः जन्म नहीं लेता और मेरे धाम को प्राप्त होता है.


One who abandons all desires and becomes free from longing and the feeling of ‘I’ and ‘my’ attains peace.

 

वह जो सभी इच्छाएं त्याग देता है और “मैं ” और “मेरा ” की लालसा और भावना से मुक्त हो जाता है उसे शांती प्राप्त होती है.


There is no one hateful or dear to Me. But, those who worship Me with devotion, they are with Me and I am also with them.

 

मेरे लिए ना कोई घृणित है ना प्रिय.किन्तु जो व्यक्ति भक्ति के साथ मेरी पूजा करते हैं , वो मेरे साथ हैं और मैं भी उनके साथ हूँ.


Whosoever desires to worship whatever deity with faith, I make their faith steady in that very deity.

 

जो कोई भी जिस किसी भी देवता की पूजा विश्वास के साथ करने की इच्छा रखता है, मैं उसका विश्वास उसी देवता में दृढ कर देता हूँ.


The unsuccessful yogi is reborn, after attaining heaven and living there for many years, in the house of the pure and prosperous.

 

स्वर्ग प्राप्त करने और वहां कई वर्षों तक वास करने के पश्चात एक असफल योगी का पुन: एक पवित्र और समृद्ध कुटुंब में जन्म होता है.

 

The One who leaves the body, at the hour of death, remembering Me attains My abode. There is no doubt about this.

 

वह जो मृत्यु के समय मुझे स्मरण करते हुए अपना शरीर त्यागता है, वह मेरे धाम को प्राप्त होता है. इसमें कोई शंशय नहीं है.


श्री कृष्णा दवारा दिए गए उपदेश Lord Krishna Quotes को  आपने ने पढ़ा आशा  यह Powerful Motivational Quotes से आपके अंदर जरूर एक नयी ऊर्जा का संचार हुआ होगा जैसे सबसे बड़े धर्म युद्ध महाभारत के कुरुक्षेत्र की युद्धभूमि में श्रीकृष्ण द्वारा अर्जुन को को दिए गए उपदेशो से चिंतित और हतास महाभारत का महानायक अर्जुन हुए थे. और सबसे बड़े धर्म युद्ध में विजय प्राप्त की थी.

दोस्तों आपको यह भी पहल अच्छी लगी होगी की Lord Krishna Quotes को  English और Hindi में प्रस्तुत किया जिसके कारण अंग्रेजी भाषा को जानने वाले भी इन श्रीमद भगवत गीता उपदेशों का लाभ उठा सकते हैं.   

दोस्तों अब बात करते कुछ खास श्रीमद भगवत गीता के उपदेशो का  जिन्हे सब पढ़ना चाहेंगे और अपने अंदर पनप रहे Negative सोच ख़त्म करते हुए एक नयी ऊर्जा (Positive Think) के साथ अपने अधूरी असफल Life को सफल बनाएंगे। तो देर कैसी आईये  पढ़ते हैं अब हिंदी भाषा में में श्रीमद भगवत गीता के उपदेशो को.

 

Lord Krishna Quotes In Hindi

 

कर्म किये जाओ, फल की चिंता मत करो

 

इस संसार में कुछ भी स्थाई नहीं है

 

इंसान जन्म से नहीं बल्कि अपने कर्मो से महान बनता है

 

भगवान प्रत्येक वस्तु में, प्रत्येक जीव में मौजूद हैं

 

परिवर्तन ही संसार का नियम हैं

 

मैं सभी प्राणियों के ह्रदय में विद्यमान हूँ

 

व्यक्ति या जीव का कर्म ही उसके भाग्य का निर्माण करता है

 

वर्तमान परिस्थिति में जो तुम्हारा कर्तव्य है, वही तुम्हारा धर्म है

 

आत्मा का अंतिम लक्ष्य परमात्मा में मिल जाना होता है

 

कर्म मुझे बांधता नहीं, क्योंकि मुझे कर्म के प्रतिफल की कोई इच्छा नहीं

 

आत्मा का अंतिम लक्ष्य परमात्मा में मिल जाना होता है

 

जो मुझे जिस रूप में पूजता है  मैं उसी रूप में उसे उसकी पूजा का फल देता हूँ

 

मैं ऊष्मा देता हूँ, मैं वर्षा करता हूँ और रोकता भी हूँ, मैं अमरत्व भी हूँ और मृत्यु भी

 

समय से पहले और भाग्य से अधिक किसी को कुछ नहीं मिलता

 

मैं किसी के भाग्य का निर्माण नहीं करता और ना ही किसी के कर्मो के फल देता हूँ

 

जब वे अपने कार्य में आनंद खोज लेते हैं तब वे पूर्णता प्राप्त करते हैं

 

नर्क के तीन द्वार हैं, वासना, क्रोध, और लालच

 

केवल मन ही किसी का मित्र और शत्रु होता हैं

 

निर्माण केवल मौजूदा चीजों का प्रक्षेपण हैं

 

कर्म का फल व्यक्ति को उसी तरह ढूंढ लेता है, जैसे कोई बछड़ा सैकड़ों गायों के बीच अपनी मां को ढूंढ लेता है

 

मेरा-तेरा, छोटा-बड़ा, अपना-पराया, मन से मिटा दो फिर सब तुम्हारा है तुम सबके हो

 

मान, अपमान, लाभ-हानि खुश हो जाना या दुखी हो जाना यह सब मन की शरारत है

 

मन शरीर का हिस्सा है, सुख दुख का एहसास करना आत्मा का नहीं शरीर का काम है

 

आत्मा अमर हैं, इसलिए मरने की चिंता मत करो

 

हर कोई खाली हाथ आया था, और खाली हाथ ही इस दुनिया से जाएगा

 

खुशियों में तो सब साथ होते हैं, असली दोस्त वही हैं जो दुःख में साथ दे

 

मन बहुत चंचल हैं, जो इंसान के दिल में उथल-पुथल कर देता हैं

 

कवल मन ही किस का मित्र और शत्रु होता है

 

मन अशांत हो तो उसे नियंत्रित करना कठिन हैं लेकिन अभ्यास से इसे वश में किया जा सकता हैं

 

आपका निराश ना होना ही परम सुख होता हैं

 

किसी भी काम में आपकी योग्यता को योग कहते हैं

 

अपने जरुरी कार्य करना, बाकी गलत कार्य करने से बेहतर हैं

 

इंसान अपने विश्वास की बुनियाद पर उस जैसा बनता चला जाता हैं

 

केवल किस्मतवाला योद्धा ही स्वर्ग तक पहुँचाने वाला युद्ध लड़ता हैं

 

सही मायने में चोर वो हैं, जो अपने हिस्से का काम किये बिना भोजन करता हैं

 

मन शरीर का हिस्सा है, सुख दुख का एहसास करना आत्मा का नहीं शरीर का काम है

 

जो दान बिना सत्कार के, कुपात्र को दिया जाता है वह तमस दान कहलाता है

 

मनुष्य संप्रदाय दो ही तरह के है एक दैवीय सम्प्रदा वाले एक आसुरी सम्प्रदा वाले

 

यह तो स्वभाव है जो की आंदोलन का कारण बनता है

 

निर्माण केवल पहले से बनी चीजो का नया रूप हैं

 

सदैव संदेह करनेवाले व्यक्ति के लिए प्रसन्नता ना इस लोक में हैं ना ही कही और

 

सुख का राज अपेक्षाए कम रखने में है

 

आनंद बस मन की एक स्थिति है जिसका बाहरी दुनिया से कोई नाता नहीं है

 

मनुष्य अपने विश्वास से निर्मित होता हैं, जैसा वो विश्वास करता हैं, वैसा वो बन जाता हैं

 

इंसान अपने विचारोंसे बनता है। जैसा वह सोचता है वैसा ही वह बनता है

 

सभी मनुष्य अपने विश्वास से निर्मित होते हैं, जैसा वे भरोसा करते हैं, वो वैसा ही बन जाता हैं

 

अपना-पराया, छोटा-बड़ा, मेरा-तेरा ये सब अपने मन से मिटा दो, और फिर सब तुम्हारा हैं और तुम सबके हो

 

आत्मा पुराने शरीर को वैसे ही छोड़ देती है, जैसे मनुष्य पुराने कपड़ों को उतार कर नए कपड़े धारण कर लेता है

 

अगर आप अपना लक्ष्य पाने में नाकामयाब होते हो तो अपनी रणनीति बदलो, लक्ष्य नही

 

व्यक्ति जो चाहे बन सकता है यदि वह विश्वास के साथ इच्छित वस्तु पर चिंतन करें

 

जो मन को नियंत्रित नहीं करते उनके लिए वह शत्रु के समान कार्य करता हैं

 

वह जो सभी इच्छाएं त्याग देता है और ‘मैं’ और ‘मेरा’ की लालसा और भावना से मुक्त हो जाता है उसे शांति प्राप्त होती है

 

Finel Word:- 

दोस्तों   आपने जाना Best Lord Krishna Quotes  के इस पोस्ट में की  ग्रन्थ सिर्फ आध्यत्मिक और हिन्दू धर्म से जुड़ा ग्रंथ ही नहीं बल्कि  भगवत गीता प्रेरणादायक और सर्व ज्ञान के भण्डार से भरा हैं  जो  हमारे मन मस्तिक के सभी द्वार को  खोलता हैं.  और हमारे अंदर ऊर्जा का संचार करता हैं 

आशा करता हूँ दोस्तों की यह Post आपको बेहद पसंद आया होगा और इस पोस्ट से आपको भी ज्ञान के दर्शन हुए होंगे।  इस पोस्ट को बड़े ही ध्यान पूर्वक बनाया हैं लेकिन त्रुटिया कही ना कही हो ही जाती हैं. मैं आप सभी से उन  त्रुटियों के लिए छमा मांगता हूँ जो इस पोस्ट को बनाते हुए हुयी होगी आप हमें हमारी गलतियों से अवगत कराये कमेंट के माध्यम से ताकि उन्हें सुधार सकू 

दोस्तों आप सभी से निवेदन हैं पोस्ट को अधिक से अधिक लोगो को शेयर करे ताकि और भी लोग ज्ञान और ध्यान से भरे Lord Krishna Quotes  के इस पोस्ट का लाभ उठा सके और अपने जीवन की राह को सरल और सुगम बना सके  धन्यवाद आप सभी मित्रो को जो आप ने इस बोल्ग को अपना समझा और अपना कीमती समय दिया। जय श्री कृष्णा 

 

 

Leave a Reply

%d bloggers like this: