Jazbaat Shayari | Best 10 Jazbaat Status ( जज़्बात पर शायरी )

Jazbaat Shayari के पोस्ट में आपको मिलेगा Jazbaat Shayari In Hindi, Jazbaat Shayari 2 Line, Jazbaat Status In Hindi, Jazbaat Status 2 Line के बेजोड़ कलेक्शन को, जहा पर आप शेरो-शायरियों के और भी मजे ले पाएंगे.

Jazbaat Shayari

1. मेरा दिल इतना भी नासमझ नहीं, जो तेरे बदलते जज़्बातों को समझे नहीं.

Mai Itna Nasamajh Nahi, Jo Tere Badalte Jazbaato Ko Samjhe Nahi.


2. है दर्द सीने में मगर होंठों पे जज़्बात नहीं आते, आखिर क्यों वापिस वो बीते हुए लम्हात नहीं आते.

Hai Dard Seene Me Magar Hotho Par Jazbaat Nahi Aate, Aakhir Kyo Vapis Vo Beete Huye Lamhat Nahi Aate.


Jazbaat Shayari In Hindi


इन्हें भी पढ़े :- 30+ Zikra Status In Hindi ( ज़िक्र शायरी )

Jazbaat Shayari In Hindi
3. खूबसूरत है वो जजबात, जो दूसरों की भावनाओं को समझ जाये.

Khubsurat Hai Vo Jazbaat, Jo Dusaro Ki Bhavnao Ko Samajh Jaye.

4. वो क्या समझेगा जज़्बात मेरे, जिसने कभी किसी को आत्मा में उतारा ही न हो, प्यार महज़ एक खेल है उसके लिए, जिसने कभी किसी को दिल से चाहा ही नहीं हो.

Vo Kya Samjhega Jazbaat Mere, Jisane Kabhi Kisi Ko Aatma Me Utara Hi Na Ho, Pyar Mahaj Ek Khel Hai Usake Liye, Jisane Kabhi Kisi Ko Dil Se Chaha Hi Nahi Ho.

5. मोहब्बत तो सिर्फ शब्द है उसका एहसास तुम हो, शब्द तो सिर्फ नुमाइश है जज़्बात तो मेरे तुम हो.

Mohabbat To Sirf Shabd Hai Uska Ahsaas Tum Ho, Shabd To Sirf Numaaish Hai Jazbaat To Mere Tum Ho.


Jazbaat Status In Hindi

6. दिल-ए-ज़ज़्बात किसी पर, ज़ाहिर मत कर, अपने आपको इश्क़ में, इतना माहिर मत कर.

Dil-Se-Jazbaat Kisi Par, Jahir Mat Kar, Apane Aapko Ishq Me, itna Mahir Mat Kar.


इन्हें भी पढ़े :- 20+ Aasmaan Status In Hindi Imasges

7. कुछ उम्दा किस्म के जज़्बात हैं हमारे, कभी दिल से समझने की तकलुफ़्फ़् तो कीजिए.

Kuch umda Kism Ke Jazbaat Hai Hamare, Kabhi Dil Se Samajhne Ki Takalluf To Kijiye.

8. अलफ़ाज़ गिरा देते हैं जज़्बात की क़ीमत, जज़्बात को लफ़्ज़ों में न ढाला करे कोई.

Alfaaz Gira Dete Hai Jazbaat Ki Keemat, Jajbaat Ko Lafzo Me Na Dhala Kare Koi.


Jazbaat Shayari 2 Line

9. बदलते दौर के हर खेल खेलेंगे, किसी रोज बच्चे खिलौने से नही लोगों के जज्बातों से खेलेंगे.

Badalte Daur Ke Har Khel Khelenge, Kisi Roj Bachhe Khilaune Se Nahi Logo Ke Jazbaat Se Khelenge.

10. रिश्तों पे भरोसा अब कैसे क्यों करोगे, जज़्बात महज़ खेल हुआ खेलते हैं लोग.

Rishto Pe Bhrosa Ab Kaise Kyo Karoge, Jazbaat Mahaj Khel Hua Khelte Hai Log.


Final Word :-

आशा करता हु कि आपको हमारा Jazbaat Shayari का पोस्ट जरुर पसंद आया होगा, इसी तरह के और शायरियों को पढ़ने के लिए आप हमारे और भी पोस्ट को जरुर पढ़े.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *