Dushman Shayari / Best 40+ Dushman Status, Dushmani Attitude Shayari

Dushman Shayari के पोस्ट में आप पढ़ सकते है, Dushman Shayari In Hindi, Dushman Shayari 2 Line, Dushman Status In Hindi, Dushman Status 2 Line, के जबरजस्त कलेक्शन. जिस आप पढ़कर इस पोस्ट के लुफ्त उठा पायेंगे.

दोस्तों आप स्वागत है हमारे इस नए पोस्ट में तो, तो जैसा की आप जानते है आज हमें आपके लिए लेकर आये है Dushman Shayari का एक नया टॉपिक, जिसे पढ़कर आप पोस्ट के और भी मजे ले सके.

दोस्तों हम आशा करते है की  यह पोस्ट आपको बहुत ही पसंद आएगा और आप इसे अपने दोस्तों को भी जरुर शेयर करेंगे, तो चलिए दोस्तों शुरू करते है आज के पोस्ट को पढना.


Dushman Shayari


1.
ऐसे बिगड़े कि फिर जफ़ा भी न की,

दुश्मनी का भी हक अदा न हुआ.

Aise Bigde Ki Fir Jafa Bhi Na Ki,
Dushmani Ka Bhi Hak Ada Na Hua.


2.
मेरे दुश्मन भी, मेरे मुरीद हैं शायद,

वक़्त बेवक्त मेरा नाम लिया करते हैं.

Mere Dushman Bhi, Mere Murid Hai Shayad,
Waqt Bewaqt Mera Naam Liya Karte Hai.


Dushman Shayari In Hindi


3.
दुश्मन को कैसे खराब कह दूं,

जो हर महफ़िल में मेरा नाम लेते है.

Dushman Ko Kaise Kharab Kah Du,
Jo Har Mahfil Me Mera Naam Lete Hai.


4.
ज़िन्दगी जीने का कुछ ऐसा अंदाज़ रखो,

जो तुम्हे न समझे उसे नज़रंदाज़ रखो.

Zindagi Jeene Ka Kuch Aisa Andaz Rakho,
Jo Tumhe Na Samhe Une Nazarandaz Rakho.


इन्हें भी पढ़े :- 30+ Kirdaar Status, Kirdar Shayari Urdu


5.
हम अपने दुश्मन को भी बहुत मासूम सज़ा देते हैं,

नही उठाते उस पर हाथ बस नज़रों से गिरा देते हैं.

Ham To Dushman Ko Bhi Bahut Maasum Saza Dete Hai,
Nahi Uthate Us Par Hath Bas Nazaro Se Gira Dete Hai.


Dushman Status In Hindi


6.
कल तक जो अपना था,

आज अफ़साना हो गया,
सफलता ने कदम क्या चूमे,
दुश्मन ज़माना हो गया.

Kal Tak Jo Apana Tha,
Aaj Afsana Ho Gaya,
Safalta Ne Kadam Kya Chume,
Dushman Jamana Ho Gaya.


7.
दुश्मन और सिगरेट को जलाने के बाद,

उन्हे कुचलने का मज़ा ही कुछ और होता है.

Dushman Aur Sigrate Ko Jalaane Ke Baad,
Unhe Kuchlne Ka Maja Hi Kuch Aur Hota Hai.


8.
जब जान प्यारी थी तब दुश्मन हज़ार थे,

अब मरने का शौक है तो कातिल नहीं मिलते.

Jab Jaan Pyari Thi Tab Dushman Hajaar The,
Jab Marne Ka Shauk Hai To Qatil Nahi Milte.


Dushmani Attitude Shayari


9.
पूछा है ग़ैर से मिरे हाल-ए-तबाह को,

इज़हार-ए-दोस्ती भी किया दुश्मनी के साथ.

Pucha Hai Gair Se Mire Haal-Ae-Tabaah Ko,
Izhaar-Ae-Dsoti Bhi Kiya Dushmani Ke Sath.


10.
दुश्मनी लाख सही ख़त्म न कीजे रिश्ता,

दिल मिले या न मिले हाथ मिलाते रहिए. निदा फ़ाज़ली

Dushmani Lakh Sahi Khatm Na Kije Rishta,
Dil Mile Ya Na Mile Hath Milaate Rahiye.


11.
दुश्मन को कैसे खराब कह दूं,

जो हर महफ़िल में मेरा नाम लेते है.

Dushman Ko Kaise Kharaab Kah Du,
Jo Har Mahfil Me Mera Naam Lete Hai.


Dushman Shayari 2 Line


12.
दुश्मनी का सफ़र इक क़दम दो क़दम,

तुम भी थक जाओगे हम भी थक जाएँगे.

Dushmani Ka Safar Ek Kadam Do Kadam,
Tum Bhi Thak Jaoge Ham Bhi Thak Jayenge.


इन्हें भी पढ़े :- 40+ Shaam Status, Shaam Gulabi Shayari


13.
जलते है मेरे दुश्मन मुझसे,

क्यूंकि मेरे दोस्त मुझे दोस्त नहीं भाई मानते है.

Jalte Hai Dushman Mujhase,
Kyuki Mere Dost Mujhe Dost Nahi Bhai Maante Hai.


14.
हाथ में खंजर ही नहीं आँखों में पानी भी चाहिए,

ऐ खुदा दुश्मन भी मुझे खानदानी चाहिए.

Hath Me Khanjar Nahi Aankho Me Pani Chahiye,
Ae Khuda Dushman Bhi Mujhe Khandani Chahiye.


Dushman Status 2 Line


15.
दुश्मनों के साथ मेरे दोस्त भी अज़ाद है,

देखना है खींचता है मुझपे पेहला तीर कौन.

Dushmano Ke Sath Mere Dost Bhi Aazad Hai,
Dekhna Hai Khichta Hai Mujhpe Pahla Teer Kaun.


16.
दुश्मन कितना भी खतरनाक क्यों ना हो,

अपनी एक झलक काफी है दहसत के लिये.

Dushman Kitna Bhi Khatarnaak Kyo Na Ho,
Apani Jhalak Kafi Hai Dahshat Ke Liye.


17.
दुश्मन हमारे सामने आने से भी डरते है,

और वो पगली दिल से खेल कर चली गई.

Dushman Hamare Samne Aane e Bhi Darte Hai,
Aur Vo Pagli Dil Se Khel Kar Chali Gayi.


Dost Bana Dushman Shayari


18.
सिरफिरा लड़का हूँ मैं,

ज़रुरत पड़ने पर हर जगह भिड़ सकता हूँ.

Sirfira Ladka Hu Mai,
Jarurat Padne Par Har Jagah Bheed Sakta Hu.


19.
मेरी नाराज़गी पर हक़ मेरे अहबाब का है बस,

भला दुश्मन से भी कोई कभी नाराज़ होता है.

Meri Narajgi Par Hak Mere Ahbaab Ka Hai Bas,
Bhala Dushman Se Bhi Koi Kabhi Naraj Hota Hai.


20.
दुश्मन को कैसे खराब कह दूं,

जो हर महफ़िल में मेरा नाम लेते है.

Dushman Ko Kaise Kharab Kah Du,
Jo Har Mahfil Me Mera Naam Lete Hai.


इन्हें भी पढ़े :- 40+ Tanhai Status, Tanhai Shayari Urdu


Dushman Shayari Dp


21.
दोस्ती या दुश्मनी, नहीं निभाता है आईना,

जो उसके सामने है, वही दिखाता है आईना.

Dosti Ya Dushmani, Nahi Nibhata Hai Aaina,
Jo Usake Samne Hai, Vahi Dikhata Hai Aaina.


22.
ऐ नसीब जरा एक बात तो बता,

तु सबको आजमाता हैँ या मुझसे ही दुश्मनी है.

Ae Naseeb Jara Ek Baat To Bata,
Tu Sabko Aajmata Hai Ya Mujhase Hi Dushmani Hai.


23.
शेर‬ का शिकार किया नहीं जाता,

राजा‬ को दरबार में मारा नहीं जाता,
दुश्मनी‬ अपनी औकात वालों से कर,
क्यूंकि खेल बाप‬ के साथ खेला नहीं जाता.

Sher Ka Shikar Kiya Nahi Jata,
Raja Ko Darbar Me Mara Nahi Jata,
Dushmani Apani Aukat Valo Se Kar,
Kyuki Khel Baap Ke Sath Khela Nahi Jata.


Dushman Shayari Photo Hindi


24.
आँखों से आँसुओं के दो कतरे क्या निकल पड़े,

मेरे सारे दुश्मन एकदम खुशी से उछल पडे़.

Aankho Se Aansuo Ke Do Katre Kya Nikal Pade,
Mere Sare Dushman Ekdam Khushi Se Uchal Pade.


25.
जिन लोगों के पास दिखाने के लिए टैलेंट नहीं होता,

वो अक्सर अपनी औकात दिखा जाते हैं.

Jin Logo Ke Paas Dikhane Ke Liye Talent Nahi Hota,
Vo Aksar Apani Aukat Dikha Jate Hai.


26.
मुझसे दोस्ती ना सही तो दुश्मनी भी ना करना,

क्यूंकि में हर रिश्ता पूरी शिददत से निभाता हूँ.

Mujhase Dosti Na Sahi To Dushmani Bhi Na Karna,
Kyuki Mai Har Rishta Puri Siddat Se Nibhata Hu.


26.
मुझसे दोस्ती ना सही तो दुश्मनी भी ना करना,

क्यूंकि में हर रिश्ता पूरी शिददत से निभाता हूँ.

Mujhase Dosti Na Sahi To Dushmani Bhi Na Karna,
Kyuki Mai Har Rishta Puri Siddat Se Nibhata Hu.


Pyar Ke Dushman Shayari In Hindi


27.
बिना मकसद बहुत मुश्किल है जीना,

खुदा आबाद रखना दुश्मनों को​ मेरे.

Bina Maksad Ke Bahut Mushkil Hai Jeena,
Khuda Aabad Rakhe Dushmano Ko Mere.


28.
चार दिन की बात है क्या दोस्ती क्या दुश्मनी,

काट दो इनको खुशी से यार हँसते-हँसते.

Char Din Ki Baat Hai Kya Dosti Kya Dushmani,
Kaat Do Inako Khushi Se Yaar Haste-Haste.


29.
मुझे जो दोस्ती है उस को दुश्मनी मुझ से.

न इख़्तियार है उस का न मेरा चारा है.

Mujhe Jo Dosto Hai Us Ko Dishmani Mujh Se,
Na Ikhtiyar Hai Us Ka Na Mera Chara Hai.


इन्हें भी पढ़े :- 40+ Ishq Status, Ishq Shayari Punjabi


30.
दोस्ती भी अब लोग अधूरा करते हैं,

दुश्मनों की कमी अब तो दोस्त पूरा करते हैं.

Dosti Bhi Ab Log Adhura Karte Hai,
Dushmano Ki Kami Ab To Dost Pura Karte Hai.


Dushman Friend Shayari


31.
वैसे दुश्मनी तो हम कुत्ते से भी नहीं करते है,

पर बीच में आ जाये तो शेर को भी नहीं छोड़ते.

Vaise Dushmani To Ham Kutte Se Bhi Nahi Karte Hai,
Par Bich Me Aa Jaye To Sher Ko Bhi Nahi Chorte.


32.
वो जो बन के दुश्मन मुझे जीतने को निकले थे,

कर लेते अगर मोहब्बत मैं खुद ही हार जाता.

Vo Jo Ban Ke Dushman Mujhe Jitne Nikale The,
Kar Lete Agar Mohabbat Mai Khud Hi Haar Jata.


33.
जो दिल के हैं सच्चे उनका दुश्मन पूरा जमाना हैं,

इस रंग बदलती दुनिया का यही सच्चा फ़साना हैं.

Jo Dil Ke Hai Sachhe Unka Dushman Pura Jamana Hai,
Is Rang Badalti Duniya Ka Yahi Sachha Fasana Hai.


Dushman Ko Jalane Wali Shayari


34.
ये कह कर मुझे मेरे दुश्मन हँसता छोड़ गए,

तेरे दोस्त काफी हैं तुझे रुलाने के लिए.

Ye Kah Kar Mujhe Mere Dushman Hasta Chor Gaye,
Tere Dost Kafi Hai Tujhe Rulane Ke Liye.


35.
हर क़दम पे नाकामी हर क़दम पे महरूमी,

ग़ालिबन कोई दुश्मन दोस्तों में शामिल है.

Har Kadam Pe Nakami Har Kadam Pe Mahrumi,
Gaalib Koi Dushman Dosto Me Shamil Hai.


36.
दुश्मनों ने जो दुश्मनी की है,

दोस्तों ने भी क्या कमी की है.

Dushmano Ne Jo Dushmani Ki Hai,
Dosto Ne Bhi Kya Kami Ki Hai.


Best Dushmani Shayari In Hindi


37.
कुछ न उखाड़ सकोंगे तुम हमसे दुश्मनी करके,

हमें बर्बाद करना चाहते हो तो हमसे मोहब्बत कर लो.

Kuch Na Ukhad Sakoge Tum Hamse Dushmani Karke,
Hame Barbaad Karna Chahate Ho To Hamse Mohabbat Kar Lo.


38.
उसके दुश्मन है बहुत आदमी अच्छा होगा,

वो मेरी ही तरह शहर में तन्हा होगा.

Usake Dushman Hai Bahut Aadami Achha Hoga,
Vo Meri Hi Shahar Me tanha Hoga.


39.
देखा तो वो शख्स भी मेरे दुश्मनो में था,

नाम जिसका शामिल मेरी धड़कनों में था.

Dekha To Vo Shakhs Bhi Mere Dushmano Me Tha,
Naam Jiska Shamil Meri Dhadkano Me Tha.


इन्हें भी पढ़े :- 30+ Ehsaas Status, Ehsaas Shayari Urdu


40.
भाई बोलने का हक़ मैंने सिर्फ दोस्तों को दिया है.

वरना दुश्मन तो आज भी हमें बाप के नाम से पहचानते हैं.

Bhai Bolne Ka Hak To Mane Sirf Dosto Ko Diya Hai,
Varna Dushman To Aaj Bhi Hame Baap Ke Naam Se Pahchante Hai.


41.
मैं हैराँ हूँ कि क्यूँ उस से हुई थी दोस्ती अपनी,

मुझे कैसे गवारा हो गई थी दुश्मनी अपनी.

Mai Hairan Hu Ki Kyu Us Se Huyi Thi Dosti Apani,
Mujhe Kaise Gavara Nahi Ho Gayi Thi Dushmani Apani.


Final Word :-

आशा करता हु कि आपको हमारा Dushman Shayari का पोस्ट जरुर पसंद आया होगा, इसी तरह के और शायरियों को पढ़ने के लिए आप हमारे और भी पोस्ट को जरुर पढ़े.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *